लोक प्रशासन : अर्थ, प्रकृति, क्षेत्र

 

                CONTENT

  •   परिचय,अर्थ,परिभाषाएं 
  •   प्रकृति
  •   लोक प्रशासन का क्षेत्र
  •   लोक प्रशासन का विकास

1) परिचय – ‘लोक प्रशासन’ प्रशासन की एक अधिक व्यापक अवधारणा का ही एक पहलू है। इसलिए लोक प्रशासन का अर्थ समझने से पहले यह आवश्यक है कि हम प्रशासन शब्द का अर्थ समझे। अंग्रेजी शब्द administer (प्रशासन करना) दो शब्दों ad और minister के मेल से बना है, जिनका अर्थ है सेवा करना या प्रबंधन करना। प्रशासन का शाब्दिक अर्थ है सार्वजनिक मामलों का प्रबंधन।

2) अर्थ – लोक प्रशासन शब्द दो अर्थों में प्रयोग किया जाता है – विस्तृत अर्थ और संकीर्ण अर्थ। विस्तृत अर्थ में लोक प्रशासन में सरकार की 3 शाखाओं विधायिका कार्यपालिका और न्यायपालिका की गतिविधियां शामिल होती हैं। इस दृष्टिकोण को वुड्रो विल्सन, एल.डी. व्हाइट, फिफनर आदि ने अपनाया है। इसके विपरीत संकीर्ण अर्थ में लोक प्रशासन में सरकार की सिर्फ कार्यकारी शाखा की गतिविधियां ही शामिल होती है। इस दृष्टिकोण को साइमन, लूथर गुलिक, विलोबी आदि ने अपनाया है।

 

3) परिभाषाएं 

वुड्रो विल्सन – “लोक प्रशासन का काम कानून को सविस्तार व्यवस्थित रूप से लागू करना है। कानून लागू करने की प्रत्येक कार्यवाही प्रशासन की ही एक गतिविधि है।”

एल.डी. व्हाइट – “लोक प्रशासन में वे सभी गतिविधियां शामिल हैं, जिनका उद्देश्य लोकनीति की पूर्ति करना या उसे लागू करना है।”

लूथर गुलिक – “लोक प्रशासन, प्रशासन के विज्ञान का वह हिस्सा है, जिसका सरोकार सरकार और इस तरह कार्यकारी शाखा से होता है जहां सरकार के काम होते हैं, हालांकि प्रत्यक्षत: विधिक और न्यायिक शाखाओं के साथ इसके संबंध में समस्याएं हैं।”

साइमन – “आमतौर पर लोक प्रशासन का अर्थ है राष्ट्रीय, प्रांतीय और स्थानीय सरकारों की कार्यकारी शाखाओं की गतिविधियां।”

 

4) प्रकृति 

लोक प्रशासन के विद्वानों ने लोक प्रशासन की प्रकृति को दो अलग-अलग दृष्टिकोण से व्यक्त किया है -समग्र दृष्टिकोण और प्रबंधकीय दृष्टिकोण।

1. समग्र दृष्टिकोण – इस दृष्टिकोण के अनुसार, लोक प्रशासन उन सभी गतिविधियों का समावेश करता है, जो दिए गए लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए की जाती हैं। दूसरे शब्दों में, लोक प्रशासन प्रबंधकीय, तकनीकी लिपिक-संबंधी और दस्ती कामों का कुल योग है। इस प्रकार इस दृष्टिकोण के अनुसार प्रशासन ऊपर से नीचे तक सभी व्यक्तियों की गतिविधियों से बनता है।

2. प्रबंधकीय दृष्टिकोण – इस दृष्टिकोण के अनुसार लोक प्रशासन में केवल प्रबंधकीय गतिविधियां शामिल होती हैं। तकनीकी, लिपिक संबंधी और दस्ती इसमें शामिल नहीं होती, जो स्वभाव से ही गैर प्रबंधकीय गतिविधियां हैं। अतः इस दृष्टिकोण के अनुसार प्रशासन सिर्फ ऊपर के व्यक्तियों की गतिविधियों से बनता है।

 

5) लोक प्रशासन का क्षेत्र

एक अध्ययन विषय के क्षेत्र का अभिप्राय है कि उस विषय के अधिकार क्षेत्र में कौन-कौन से कार्य या क्रियाएं सम्मिलित की जाती हैं। मोटे तौर पर हम कह सकते हैं कि लोक प्रशासन का क्षेत्र राज्य तथा सरकार के क्षेत्र के समरूप है किन्तु यदि हम सूक्ष्म रूप से विचार करें तो इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि लोक प्रशासन का क्षेत्र अभी पूर्णतया स्पष्ट नहीं हो पाया है क्योंकि कुछ मूलभूत प्रश्नों का सर्वमान्य हल खोजा जा रहा है, फिर भी इस अध्ययन विषय के क्षेत्र को समझने में निम्नांकित दृष्टिकोण लाभदायक हो सकते हैं:

1) संकुचित दृष्टिकोण : संकुचित विचार (Narrow view) के मानने वालों के अनुसार लोक प्रशासन का सम्बन्ध शासन की केवल कार्यपालिका शाखा (Executive Branch) से है। साइमन ने कहा है कि लोक प्रशासन से अभिप्राय उन क्रियाओं से है जो केन्द्र, राज्य तथा स्थानीय सरकारों की कार्यपालिका शाखाओं द्वारा सम्पादित की जाती है। लूथर गुलिक द्वारा प्रस्तुत “पोस्डकार्ब” विचार को भी इसी संकुचित दायरे में रखा जा सकता है।

2) व्यापक दृष्टिकोण : व्यापक दृष्टिकोण के समर्थक यह मानते हैं कि लोक प्रशासन के अन्तर्गत सरकार के तीनों अंगों-व्यवस्थापिका, कार्यपालिका एवं न्यायपालिका द्वारा सम्पादित कार्य शामिल हैं। इनके अनुसार लोक प्रशासन के क्षेत्र में वे सभी क्रियाकलाप सम्मिलित हैं जिनका प्रयोजन लोक-नीति को पूरा करना या उसे क्रियान्वित करना होता है। विलोबी, मार्क्स और एल० डी० व्हाइट इस विचार के समर्थक हैं। मार्क्स के शब्दों में, “अपने व्यापकतम क्षेत्र में लोक प्रशासन के अन्तर्गत सार्वजनिक नीति से सम्बन्धित समस्त क्रियाएँ आती हैं।”

3) पोस्डकोर्ब दृष्टिकोण : प्रशासनिक सिद्धांत एवं विचार लोक प्रशासन के कार्य-क्षेत्र के सम्बन्ध में POSDCORB विचार लूथर गुलिक (Luther Gullick) की देन है। “POSDCORB” शब्द अंग्रेजी के सात शब्दों के प्रथम अक्षरों को मिलाकर बनाया गया है इन शब्दों का विस्तृतत अध्ययन आवश्यक है, क्योंकि POSDCORB द्वारा निष्पादित कार्य मोटे तौर पर मुख्य कार्यपालिका द्वारा निष्पादित कार्य से काफी मिलता-जुलता है।

1. योजना बनाना (Planning): बिना योजना के लक्ष्य प्राप्त करना कठिन हो जाता है। इच्छित कार्यों की रूपरेखा तैयार करना और निर्धारित लक्ष्य की प्राप्ति के लिए रीतियों एवं नीतियों का निर्धारण इसके अन्तर्गत किया जाता है।

2. संगठन बनाना (Organising): प्रशासकीय ढाँचे को इस प्रकार संगठित किया जाये कि कार्यों का विभाजन उचित ढंग से हो सके। प्रशासकीय चार्ट, संगठन के सिद्धान्त एवं कार्यों का बँटवारा इन तीनों के बीच सन्तुलन बनाये रखना संगठन का एक प्रमुख कार्य है।

3. कर्मचारियों की व्यवस्था करना (Staffing): कर्मचारियों के माध्यम से ही लक्ष्यों को प्राप्त किया जा सकता है। कर्मचारियों की भर्ती, चयन प्रशिक्षण, पदोन्नति एवं कार्य करने की अनुकूल दशाओं का निर्माण करना इसके अन्तर्गत शामिल है।

4. निर्देशन प्रदान करना (Directing): लोक प्रशासन का कार्य प्रशासन सम्बन्धी कार्यों का विश्लेषण करके निर्णय लेना और निर्णय के अनुसार कर्मचारियों को निर्देश देना है। उचित निर्देशन के अभाव में प्रशासन अपने लक्ष्यों से भटक जायेगा।

5. समन्वय स्थापित करना (Co-ordinating): प्रशासकीय कार्यों के सम्पादन में समन्वय एक आवश्यक तत्व है। कार्यों का विभाजन कर उचित कार्य उचित व्यक्ति को देना और उसमें तालमेल बैठाना या समन्वय करना एक बहुत बड़ी समस्या है। समन्वय के द्वारा कार्यों के दोहराव को भी रोका जाता है।

6. प्रतिवेदन देना (Reporting): इसका अर्थ है प्रशासकीय कार्यों की प्रगति से सम्बन्धित सूचनाएँ उन लोगों को प्रदान करना जिनके प्रति संगठन उत्तरदायी है। प्रशासन की उपलब्धियों, कमियों तथा समस्याओं के निरीक्षण के सम्बन्ध में प्रतिवेदन देकर ही हम प्रशासन को उत्तरदायी बना सकते हैं।

7. बजट तैयार करना (Budgeting): प्रशासन के लिए वित्त ही प्राण है। बिना समुचित वित्त की व्यवस्था के लोक प्रशासन शिथिल हो जायेगा। आय-व्यय का लेखा-जोखा तैयार करना, वित्तीय योजनाओं का निर्माण करना, करारोपण, व्यय करना और अंकेक्षण के माध्यम से नियन्त्रण रखना इसके अन्तर्गत शामिल हैं।

POSDCORB की उपर्युक्त क्रियाएँ लोक प्रशासन के सभी संगठनों में पायी जाती हैं। प्रशासन के किसी भी क्षेत्र में ये प्रशासनिक क्रियाएँ समान रूप से काम में आती हैं। ये प्रबन्ध सम्बन्धी सामान्य समस्याएँ हैं जो प्रत्येक अभिकरण में पायी जाती हैं। अतः यह कहना उपर्युक्त होगा कि मोटे रूप से लोक प्रशासन के कार्यक्षेत्र को ही POSDCORB के सूत्र में पिरोया गया है।

4) लोक नीति सम्बन्धी दृष्टिकोण : यद्यपि व्हाईट द्वारा दी गई परिभाषा के अन्तर्गत लोक प्रशासन, लोक नीतियों (Public Policies) के क्रियान्वयन से सम्बन्धित माना जाता रहा है, किन्तु विगत कुछ दशकों से यह कहा जा रहा है कि लोक प्रशासन केवल सरकारी नीतियों के व्यावहारिक क्रियान्वयन के लिए ही उत्तरदायी नहीं है बल्कि नीति के निर्माण में भी इसकी अहम भूमिका है। सामान्यतः यही माना जाता है कि लोक नीति का निर्माण सर्वोच्च राजनीतिक कार्यपालिका तथा विधायिका करती है तथा लोक प्रशासन के अधिकारी एवं संस्थाएँ राजनीतिज्ञों द्वारा निर्मित लोक नीति को लागू करते हैं किन्तु लोक प्रशासन को नीति विज्ञान मानने वाले यह तर्क देते हैं कि वर्तमान परिस्थितियों में लोक नीति वैसी ही निर्मित होती है जैसा कि प्रारूप प्रशासनिक अधिकारी तैयार करके देते हैं या तथ्य तथा आँकड़े उपलब्ध करवाकर अपनी भूमिका निभाते हैं। दूसरा तर्क यह दिया जा रहा है कि लोक नीति तो एक स्थूल विचार है जबकि इस नीति का क्रियान्वयन वास्तव में वैसा ही होता है जैसे कि कार्यक्रम तथा योजनाएँ प्रशासन बनाता है। लोक प्रशासन में भी अधिकांश स्तरों पर नीतियाँ तैयार होती है। वैसे भी नीति विज्ञानी यह मानते हैं कि राजनीति विज्ञान तथा लोक प्रशासन का क्षेत्र मिलता-जुलता है। इनके मध्य दूरी या विभाजक रेखा खींचना हितकर नहीं है।

5) मनोसामाजिक दृष्टिकोण : फ्रेड रिग्ज, फरेल हैडी एवं स्टॉक्स तथा रॉबर्ट डहल इत्यादि प्रगतिशील विद्वान यह मानते हैं कि लोक प्रशासन निर्वात (शून्य) में कार्य नहीं करता है बल्कि यह तो सम्पूर्ण मानव समाज का अनिवार्य अंग है, अतः लोक प्रशासन का क्षेत्र केवल कुछ प्रबंधकीय तकनीकें नहीं बल्कि मानव समाज की सभ्यता, संस्कृति, मूल्य, परिस्थितियाँ, अर्थव्यवस्था तथा मानव-व्यवहार इत्यादि भी इसके अध्ययन क्षेत्र में सम्मिलित हैं।

तुलनात्मक लोक प्रशासन तथा सिद्धान्त निर्माण को एक दूसरे का पर्याय मानने का कारण यही है कि ऐसा लोक प्रशासन को एक सैद्धान्तिक विषय के रूप में स्थापित करने के लिए यह नितांत आवश्यक है। रॉबर्ट डहल का मानना है- “जब तक लोक प्रशासन का अध्ययन तुलनात्मक नहीं बनाया जाता, तब तक लोक प्रशासन को विज्ञान मानने का दावा खोखला ही बना रहेगा।” इस प्रकार यह दृष्टिकोण, पारिस्थितिकीय उपागम का समर्थक है जो न केवल सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक तथा सांस्कृतिक कारकों से लोक प्रशासन के अध्ययनों में सम्मिलित करता है बल्कि अन्य सामाजिक विज्ञानों के साथ अन्तर्विषयी दृष्टिकोण पर भी बल प्रदान करता है। वास्तव में, लोक प्रशासन के क्षेत्र में सभी सामाजिक विज्ञानों का क्षेत्र तो सम्मिलित नहीं किया जा सकता है बल्कि लोक प्रशासन के अध्ययनों में कुछ सामाजिक पक्षों को समाहित करना एक सीमा तक अनिवार्य-सा है।

6) लोक प्रशासन एवं निजी प्रशासन द्विविभाजन दृष्टिकोण : लोक प्रशासन तथा निजी प्रशासन में कुछ आधारभूत समानताएँ भी हैं तो कुछ स्पष्ट अंतर भी हैं। हेनरी फेयोल, मेरी पारकर फॉलेट तथा उरविक लोक प्रशासन तथा निजी प्रशासन में भेद (पार्थक्य) नहीं स्वीकारते हैं। फेयोल के अनुसार प्रशासन का जो अर्थ मैंने बताया है, वह प्रशासनिक विज्ञान के क्षेत्र को बहुत विस्तृत बना देता है।” अर्थात् लोक प्रशासन तथा निजी प्रशासन की कार्यप्रणाली, नियम तथा क्षेत्र एक समान हैं लेकिन बरसों से यह माना जाता रहा है कि लाभ, उद्देश्य, व्यापकता, दायित्व तथा लोकहित के आधारों पर लोक एवं निजी प्रशासन में व्यापक अंतर विद्यमान है। निःसंदेह एक बनिए की दुकान तथा सरकारी कार्यालय एक समान नहीं हो सकते हैं लेकिन लोक उपक्रमों के माध्यम से सरकार ने भी उन्हीं क्रियाओं को अपना लिया है जो एक निजी कम्पनी अपनाती है। दूसरी ओर, किसी भी देश की अर्थव्यवस्था, राष्ट्रीय सुरक्षा तथा सामाजिक विकास के दायित्व सरकार उठाती है, अतः सरकार कुछ कानून तथा नीतियों को इस प्रकार की बना देती है कि वे सरकारी संगठनों तथा निजी संगठनों पर एक समान लागू होती हैं। बढ़ते वैश्वीकरण, निजीकरण, उदारीकरण तथा सूचना प्रौद्योगिकी क्रान्ति ने लोक प्रशासन तथा निजी प्रशासन के अन्तर को कम किया है। लोक प्रशासन तथा निजी प्रशासन के इसी द्विविभाजन ने इसके क्षेत्र का रेखांकन अस्पष्ट बनाया हुआ है।

3 thoughts on “लोक प्रशासन : अर्थ, प्रकृति, क्षेत्र”

  1. क्या मैं इसका इस्तेमाल असाइनमेंट में कर सकता हूं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.